अगर आपकी बेटी है तो ये योजना आपके लिए है , सरकार दे रही 15 लाख इस यौजना के तहत

सरकारी नौकरी पाने के लिए हमारे व्हाट्स एप्प ग्रुप से जुड़े े Join Now

Sukanya Samriddhi Yojana : भारत के केंद्र सरकार के द्वारा बालिकाओं के कल्याण के लिए एक महत्वपूर्ण योजना चलाई जाती है, जिसका नाम सुकन्या समृद्धि योजना है। इस योजना का फायदा एक परिवार की अधिकतम दो बेटियों को दिया जा सकता है। योजना में आप मामूली सा इन्वेस्टमेंट करके तगड़ी रकम कुछ सालों के पश्चात प्राप्त कर सकते हैं, जिसका इस्तेमाल बेटी की शिक्षा के लिए या फिर बेटी के विवाह के लिए किया जा सकता है।

सुकन्या समृद्धि योजना

सुकन्या समृद्धि योजना

इस योजना में ऐसे माता-पिता अकाउंट ओपन करवा सकते हैं जिनकी बेटी की उम्र 10 साल है। जब बेटी की उम्र 18 साल अथवा 21 साल हो जाती है, तो योजना में जो पैसा जमा किया गया होता है उसकी रकम को निकाला जा सकता है, जिस पर आपको ब्याज सहित पूरी रकम वापस मिलती है।

सुकन्या समृद्धि योजना

गवर्नमेंट के द्वारा इस योजना के तहत ओपन हुए अकाउंट पर 7.6 परसेंट की ब्याज दर से ब्याज दिया जाता है अर्थात योजना का मेच्योरिटी पीरियड पूरा होने के बाद आपको टोटल इन्वेस्टमेंट तो वापस मिलता ही है, साथ ही ब्याज की रकम भी मिलती है। इस योजना के माध्यम से ₹15 लाख तक भी प्राप्त किया जा सकते हैं। यदि आप अपनी बेटी के नाम पर रोज ₹100 जमा करते हैं या फिर 416 रुपए की सेविंग करते हैं, तो 65 लाख रुपए की धन राशि भी आपको प्राप्त हो सकती है।

सुकन्या समृद्धि योजना

आपकी बेटी को 15 लाख कैसे मिलेंगे?

यदि सुकन्या समृद्धि योजना खाते में हर महीने आप ₹3000 जमा करते हैं, तो साल भर में आप ₹36000 जमा करेंगे, जो 14 साल की उम्र में आपकी बेटी को 7.6% की दर से 9 लाख 11, 574 रुपए की धनराशि बनाएगी। इसके पश्चात जब बेटी की उम्र 21 साल कंप्लीट हो जाएगी तो आपकी बेटी को पूरे 15 लाख रुपए हासिल हो सकेंगी। अगर आप हर रोज ₹100 अकाउंट में जमा करते हैं तो मैच्योरिटी के बाद 15 लाख रुपए तक प्राप्त हो सकते हैं।

सुकन्या समृद्धि योजना

ऐसे खुलवाए सुकन्या समृद्धि योजना अकाउंट

योजना के तहत बैंक में या फिर पोस्ट ऑफिस में अकाउंट ओपन करवा सकते हैं। आपको संबंधित योजना का एप्लीकेशन फॉर्म बैंक या पोस्ट ऑफिस से मिलेगा, उसमें महत्वपूर्ण जानकारी को दर्ज करना है और दस्तावेज की फोटो कॉपी को साथ में अटैच कर देना है और इसे संबंधित कर्मचारियों के पास जमा कर देना है। इसके बाद आपके दस्तावेज और जानकारी का वेरीफिकेशन होगा और सब कुछ सही रहने पर योजना में अकाउंट ओपन कर दिया जाएगा। इसके बाद योजना में आप इन्वेस्टमेंट कर सकते हैं।

Comments are closed.