14 साल पीपल के पेड़ पर रहा भूत बन कर , जनम लेकर सुनाई कहानी

सरकारी नौकरी पाने के लिए हमारे व्हाट्स एप्प ग्रुप से जुड़े े Join Now

दोस्तों सनातन धर्म एक ऐसा धर्म है जिसमे पुनर्जन्म को माना जाता है और दुनिया के और किसी मजहब में इसको नहीं माना जाता है . हमारे ऋषि मुनियों ने इस चीज़ की खोज लाखो साल पहले ही कर ली थी जब की आज के वैज्ञानिक भी इस चीज़ की खोज नहीं कर पाए है . हम कभी ये भी सोचते है की मरने के बाद क्या होता और क्या कोई भूत योनी भी होती है , इस बात की खोज सब करना चाहते है लेकिन इसके लिए तो मरना पड़ेंगा . लेकिन आज हम एक ऐसे आदमी की कहानी आपको बताएँगे जिसके साथ ये सब कुछ हो चूका है और फिर उसने जनम लेकर ये सब कहानी बताई .

 

14 साल तक रहा पीपल के पेड़ पर

 

आज हम जिनकी बात आपको सुनाने जा रहे है वो पिछले जनम में एक मास्टर थे और गाव मित्रोल में संस्कृत के टीचर थे , किसी कारण से उनकी मृत्यु हो गयी थी . फिर वो 14 साल कई दूसरी आत्माओ के साथ एक पीपल के पेड़ के ऊपर रहे और फिर इस जनम में आकाश के रूप में जनम लिया . उन्होंने पूरा विस्तार से बताया की मरने के बाद जो आत्मा भटकती है उनके साथ क्या होता है . उनका कहना था की सूक्ष्म रूप में रहने में बहुत कष्ट होता है क्योकि आभास तो सब होता है लेकिन कर कुछ नहीं सकते .

yoni

सुनाई अपनी पुनर्जन्म की कहानी

 

इस जनम के आकाश ने बताया की जब वो भूत योनी में था तो उसको भूख प्यास भी लगती थी लेकिन वो कुछ ना तो खा सकता था ना ही कुछ पी सकता था . उसने बताया की भगवान नाम के जाप करने से ही उसकी भूख प्यार मिट जाती थी , उन्होंने बताया की अगर आपके कुछ कर्म शेष रह जाती है और आपकी मृत्यु हो जाती है तो आपको भूत योनी में जाना पड़ता है .

Leave a Comment